भलुआ में नवनिर्मित पंचमुखी संकट मोचन हनुमान मंदिर का तीन दिवसीय प्राण प्रतिष्ठा समारोह संपन्न

भलुआ में नवनिर्मित पंचमुखी संकट मोचन हनुमान मंदिर का तीन दिवसीय प्राण प्रतिष्ठा समारोह संपन्न

 

रिपोर्ट: चंदन कुमार “चंचल”

 

सारण:(तरैया)- प्रखंड के चंचलिया पंचायत के भलुआ में नवनिर्मित संकट मोचन पंचमुखी हनुमान मंदिर का तीन दिवसीय प्राण प्रतिष्ठा महायज्ञ बुधवार को संपन्न हुआ।

तीन दिनों से चल रहे इस धार्मिक अनुष्ठान के क्रम में पूरे गांव का माहौल भक्तिमय बना हुआ था एवं वैदिक रीति रिवाज के साथ बनारस से आए आचार्यों के मंत्रोच्चारण द्वारा यह अनुष्ठान संपन्न हुआ। मंदिर के संस्थापक श्री राधेश्याम सिंह ने बताया कि मंदिर बनाने की प्रेरणा मुझे अपने पिताजी से मिली और उन्हें दिए गए वचन के अनुसार मैंने मंदिर निर्माण कार्य को पूर्ण कर दिया है एवं आने वाली पीढ़ियों से आशा करता हूं कि इसे और विस्तारित करेंगे। यह मंदिर अपने आप मे अद्भुत है। इस मंदिर का मुख्य द्वार दक्षिण की तरफ है। मान्यता है कि दक्षिणमुखी मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं पर भगवान की असीम कृपा बनी रहती है व उनकी हर मनोकामना पूर्ण होती है। वहीं अवकाश प्राप्त प्रचार्य मधुकर विरेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि कलयुग में प्राणी मात्र को मोक्ष प्राप्ति के लिए भक्ति एकमात्र सहारा है और इसके लिए देवालय एक माध्यम बनते हैं जहां जाकर हम अपने भक्ति भाव को प्रकट कर सकते हैं। इसलिए समाज में मंदिरों का निर्माण होना चाहिए यह नितांत ही आवश्यक है। तीन दिवसीय प्राण प्रतिष्ठा समारोह के समाप्ति के बाद भंडारे का भी आयोजन किया गया था जिसमें सैकड़ों की संख्या में लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखते हुए प्रसाद ग्रहण किया। मौके पर अवकाशप्राप्त प्राचार्य मधुकर वीरेंद्र प्रताप सिंह, मंदिर निर्माणकर्ता राधेश्याम सिंह, सत्येन्द्र सिंह, गजेंद्र सिंह, अभिरंजन सिंह, चुन्नू सिंह, कृष्ण कुमार सिंह, पक्का सिंह, कुबेर सिंह, प्रेम सिंह, पारस सिंह समेत अन्य श्रद्धालु सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए शामिल हुए।

error: Content is protected !!