जलालपुर पीएचसी में प्रतिदिन 150 से 200 मरीजों का होता है इलाज

जलालपुर पीएचसी में प्रतिदिन 150 से 200 मरीजों का होता है इलाज

 

•ओपीडी में सभी 42 तथा आईपीडी में 46 दवा है उपलब्ध

 

•गर्भवती महिलाओं गंभीर रूप से घायल व अन्य मरीजों को दी जाती है निशुल्क एंबुलेंस

 

• मास्क के प्रयोग करने के लिए किया जा रहा है प्रेरित

 

छपरा। सारण जिले के जलालपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में प्रतिदिन डेढ़ सौ से 200 मरीज इलाज के लिए आते है। जहां पर कोरोना महामारी के बीच सीमित संसाधनों में मरीजों की बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने की प्रयास की जाती है। उक्त बातें सिविल सर्जन डॉ माधवेश्वर झा ने कही। उन्होंने बताया जलालपुर पीएचसी में सभी प्रकार के दवा उपलब्ध है। ओपीडी में 42 तरह के दवा तथा आईपीडी में 46 तरह के दवा उपलब्ध है। दवाओं की कोई कमी नहीं है। सभी बेड पर चादर उपलब्ध है। वार्डो की साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखा जा रहा है। उन्होंने कहा कि डॉक्टर वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के बीच में अपने कर्तव्य को बखूबी निभा रहे हैं। वे मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए लगातार मेहनत कर रहे हैं।

 

रात भर जगकर करते हैं ड्यूटी:

 

जलालपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के स्वास्थ्य प्रबंधक अजीत कुमार ने बताया कि यहां पर रोस्टर के अनुसार डॉक्टरों की ड्यूटी लगाई गई है। चिकित्सक अपने कर्तव्यों को बखूबी निभा रहे हैं। सभी चिकित्सक समय से आते हैं और अपनी ड्यूटी करते हैं। इमरजेंसी में रात भर डॉक्टर जगकर ड्यूटी करते है। यहां 24 घँटे बेहतर स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध है।

 

गर्भवती महिलाओं व गंभीर मरीजो को नि:शुल्क एम्बुलेंस:

 

प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ सुभाष तिवारी ने बताया कि जलालपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में आने वाली गर्भवती महिलाओं, सड़क दुर्घटना में घायल व गंभीर रूप से बीमार मरीजों को निशुल्क एंबुलेंस की सुविधा दी जाती है। इसके लिए 102 टोल फ्री नंबर पर कॉल करके एंबुलेंस की मांग की जा सकती है। उन्होंने बताया कि यहां पर प्रतिदिन 8 से 10 प्रसव के मामले आते है। सभी को एंबुलेंस से लाया जाता है तथा एंबुलेंस से उनके घर तक पहुंचाया जाता है।

 

साफ-सफाई का विशेष ख्याल:

 

वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर पूरा विभाग अलर्ट है तथा अस्पतालों में नियमित साफ सफाई की जा रही है ओपीडी इमरजेंसी वार्ड को प्रतिदिन सेनीटाइज किया जा रहा है। ताकि संक्रमण से बचाव हो सके।

 

मास्क पहनने के लिये कर रहे प्रेरित:

 

अस्पताल में इलाज के लिए आने वाले मरीजों और उनके परिजनों को मास्क का प्रयोग करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है तथा कोरोनावायरस के संक्रमण से बचाव की जानकारी दी जा रही है। साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग की पालन करने के लिए अपील किया जा रहा है।

 

 

जल्द दुरुस्त होगा सीसीटीवी कैमरा: 

 

बीएचएम अजीत कुमार ने बताया कि अस्पताल में लगे सीसीटीवी कैमरे में कुछ तकनीकी खराबी आई है उसे रिपेयरिंग करने के लिए पटना भेजा गया है। बहुत जल्द सीसीटीवी कैमरे को फिर से चालू कर दिया जाएगा।

error: Content is protected !!