मांझी के NDA ज्वाइन करते ही ‘हम’ में बगावत, नेता बोले- हम महागठबंधन में ही रहेंगे

मांझी के NDA ज्वाइन करते ही ‘हम’ में बगावत, नेता बोले- हम महागठबंधन में ही रहेंगे

  पटना: बिहार की सियासत का रूप ही अलग है. यह कभी थमता ही नहीं है. महागठबंधन से निकलने के बाद लगातार यह अटकलें लगाई जा रही थीं कि हम प्रमुख जीतनराम मांझी कहां जाएंगे. जैसे ही मांझी ने एनडीए का पार्टनर बनने की ईच्छा जगजाहिर की, हम में बगावत शुरू हो गई. हम के प्रदेश कार्यक्रारी अध्यक्ष उपेंद्र प्रसाद ने बगावत के स्वर तेज कर दिए हैं.

हम के नेता ने कहा कि वे महागठबंधन में ही रहेंगे, एनडीए में नहीं जाएंगे. उन्होंने कहा कि मैं एनडीए में जाने के जीतनराम मांझी के फैसले के साथ नहीं हैं. उपेंद्र प्रसाद ने तो यहां तक कह दिया कि हमारे साथ हम पार्टी की प्रदेश की आधी कमिटी भी महागठबंधन में ही रहेगी.

हम पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष प्रफुल्ल चंद्र, महासचिव नीतीश कुमार दांगी, सचिव राकेश कुमार भी मांझी के फैसले के साथ नहीं दिख रहे हैं.

उपेंद्र प्रसाद पहले पहल आरजेडी में थे. इसके बाद कुछ दिनों तक जेडीयू से एमएलसी भी रहे थे. इसके बाद लोकसभा चुनाव से ठीक पहले उन्होंने हम पार्टी ज्वाइन कर ली थी. उपेंद्र प्रसाद ने लोकसभा चुनाव में हम की तरफ से दावेदारी पेश की थी.

बता दें कि इससे पहले बिहार में हम प्रमुख जीतनराम मांझी  ने आखिरकार अपने भविष्य के राजनीतिक अटकलों पर ब्रेक लगाते हुए एनडीए के साथ खड़ा होने का फैसला जगजाहिर कर दिया है. उन्होंने कहा कि वे जेडीयू का एक अंग हो कर काम करेंगे. पार्टी का विलय नहीं करेंगे. बल्कि एनडीए के पार्टनर के रूप में काम करेंगे.

हम प्रमुख ने कहा कि कांग्रेस और आरजेडी को कोऑर्डिनेशन कमिटी के लिए बार-बार कहा लेकिन उन्होंने ध्यान नहीं दिया. मांझी ने कहा कि एनडीए में बिना शर्तों के साथ रहेंगे. सीट को लेकर कोई पेंच नहीं है.

मांझी ने यह स्पष्ट किया कि वे NDA को जीत दिलाने के लिए काम करेंगे. उन्होंने कहा कि महागठबंधन में रहते हुए हमने अररिया और जहानाबाद का चुनाव जिताया.

 

error: Content is protected !!