कोरोना संकटकाल में भी मिल रही है परिवार नियोजन की सुविधाएं

कोरोना संकटकाल में भी मिल रही है परिवार नियोजन की सुविधाएं

 

• स्वास्थ्य केंद्रों में लगे कंडोम बॉक्स में हो रही निःशुल्क कंडोम की सप्लाई

• सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर लगाए गए हैं कंडोम बॉक्स

 

छपरा/ 25 मई। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संकट के बीच भी परिवार कल्याण कार्यक्रम को संचालित किया जा रहा है । जिसके तहत योग्य लाभार्थियों के बीच परिवार नियोजन के अस्थाई सुविधाएं पहुंचाई जा रही है। जिले के सदर अस्पताल समेत सभी स्वास्थ्य केंद्रों में लगे कंडोम बॉक्स में एक बार फिर से कंडोम की सप्लाई शुरू कर दी गई है। बता दें कि कोरोना संक्रमण के कंडोम बॉक्स में कंडोम की सप्लाई बंद कर दी गई थी। जनसंख्या स्थिरीकरण को ध्यान में रखते हुए राज्य स्वास्थ्य समिति के द्वारा परिवार नियोजन के सेवाओं को फिर से संचालित करने का निर्देश दिया गया था। जिसके बाद फिर से कंडोम की सप्लाई शुरू कर दी गई है। परिवार नियोजन के साथ यौन संक्रमित रोगों एवं एचआईवी-एड्स से बचने के लिए कंडोम का इस्तेमाल करना अनिवार्य है।

 

निःशुल्क मिल रहा कंडोम:

 

केयर इंडिया के फैमिली प्लानिंग कोऑर्डिनेटर प्रेमा कुमारी ने बताया जिले के सदर अस्पताल समेत सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर कंडोम बॉक्स लगाया गया है। जहां से लाभार्थी निशुल्क कंडोम प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा आशा कार्यकर्ताओं द्वारा घर घर जाकर परिवार नियोजन की अस्थाई साधनों की वितरण की जा रही है।

 

प्रवासियों को ध्यान में रखते हुए शुरू की गई सेवाएं:

 

सिविल सर्जन डॉ माधवेश्वर झा ने बताया कि कोरोना संकट से बचने के लिए देश में लॉक डाउन लागू किया गया है। इस दौरान काफी संख्या में प्रवासी मजदूर अपने घर को लौटे हैं। इस को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने परिवार नियोजन के सेवाओं को फिर से शुरू कर दिया है। ताकि अधिक से अधिक लाभार्थियों के बीच परिवार नियोजन के सेवाओं को पहुंचाया जा सके तथा जनसंख्या स्थिरीकरण में सफलता मिल सके।

 

 

कंडोम नहीं मिलने पर कर सकते हैं शिकायत:

 

स्वास्थ्य केंद्रों में लगाए गए कंडोम बॉक्स में लाभार्थी को कंडोम नहीं मिलता है तो वहां के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी तथा जिले के सिविल सर्जन से इसकी शिकायत कर नि:शुल्क कंडोम प्राप्त कर सकते हैं।

 

क्या है आंकड़ा:

 

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण- 4 के अनुसार जिले में 1.7 प्रतिशत लोग ही अनचाहे गर्भ से बचने के लिए कंडोम का इस्तेमाल करते हैं। जागरूकता की कमी एवं स्थानीय स्तर पर आसानी से कंडोम की उपलब्धता नहीं होना भी इसके इस्तेमाल में कमी को दर्शाता है। इसको ध्यान में रखते हुये ही जिला से लेकर प्रखण्ड स्तरीय अस्पतालों में कंडोम बॉक्स लगाए गए हैं।

 

कंडोम इस्तेमाल के फ़ायदे:

• अनचाहे गर्भ से छुटकारा

• जनसंख्या स्थिरीकरण में सहयोगी

• एचआईवी-एड्स के ख़तरे से बचाव

• अन्य यौन संक्रामक रोगों से बचाव

error: Content is protected !!