कोविड-19 से संक्रमित माँ भी करा सकती है अपने बच्चे को स्तनपान

कोविड-19 से संक्रमित माँ भी करा सकती है अपने बच्चे को स्तनपान

•मां का दूध फायदे खूब, मां का दूध बच्चों के लिए अमृत समान

 

• स्तनपान से बच्चों में होती है रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास

 

• कई तरह के बीमारियों से लड़ने की मिलती है क्षमता

 

• यूनिसेफ ने वीडियो जारी कर स्तनपान के बारे में किया जागरूक

 

 

छपरा: नवजात शिशुओं और बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए 1 से 7 अगस्त तक विश्व स्तनपान सप्ताह का आयोजन किया जा रहा है। इस दौरान माताओं को स्तनपान कराने के लिए प्रेरित किया जा रहा है तथा स्तनपान के बारे में जागरुक भी किया जा रहा है। इसको लेकर यूनिसेफ के द्वारा एक वीडियो जारी किया गया है, जिसमें स्तनपान से संबंधित तमाम जानकारियां दी गई है। यूनिसेफ बिहार के पोषण पदाधिकारी डॉ शिवानी डार ने बताया कोरोना से संक्रमित मां भी अपने बच्चे को स्तनपान करा सकती है। मां का दूध बच्चों के लिए काफी फायदेमंद होता है। स्तनपान बच्चों के लिए अमृत के समान है। उन्होंने कहा मां के दूध में कई प्रकार की एंटीबॉडी होती है, जिससे बच्चों में रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास होता है। मां का दूध बच्चों के स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद है। यह शिशुओं के पोषण के लिए बेहद जरूरी है । मां के दूध में कई तरह के पोषक तत्व होते हैं जो कि नवजात शिशुओं को कई तरह की गंभीर बीमारियों से बचाते हैं। डॉ शिवानी ने बताया शिशु के जन्म लेते ही उसे मां के दूध की जरूरत होती है। मां का दूध शिशुओं के लिए संपूर्ण आहार होता है। इसमें सारे पोषक तत्व मौजूद होते हैं। नवजात शिशु के लिए शुरुआती 6 माह केवल स्तनपान काफ़ी जरूरी होता है। इस दौरान स्तनपान के अलावा बाहर से पानी भी नहीं देना चाहिए। उन्हें इस दौरान केवल स्तनपान से ही जरूरी पोषण मिल जाता है एवं माँ का दूध ही शिशुओं के लिए सबसे ज्यादा सुपाच्य भी होता है।

 

 

कोविड-19 से संक्रमित माँ भी करा सकती है स्तनपान:

 

यूनिसेफ बिहार के पोषण पदाधिकारी डॉक्टर शिवानी डार ने कहा अगर मां कोरोना वायरस से संक्रमित है तो भी ,वह अपने बच्चों को स्तनपान करा सकती है। इसके लिए उन्हें कुछ जरूरी सावधानियां बरतनी होगी।

 

• दूध पिलाते समय श्वसन स्वच्छता का ध्यान रखें

• छींकते या खांसते समय रुमाल या टिशू का इस्तेमाल करें इस्तेमाल किया हुआ टिशू ढक्कन वाले कूड़ेदान में डालें

• स्तनपान कराते समय मांस का प्रयोग करें

• बच्चे को छूने से पहले और बाद में साबुन और पानी से 40 सेकंड तक हाथ जरूर धोएं

• नियमित रूप से अपने आसपास की जगह को कीटाणु नाशक या डिसइनफेक्टेंट से साफ करें

 

कोविड-19 से गंभीर रूप से बीमार माँ ऐसे कराएं स्तनपान:

 

अगर मां कोविड-19 के संक्रमण से गंभीर रूप से बीमार हैं तथा वह अपने बच्चे का स्तनपान नहीं करा सकती हैं, तो उसे अपने दूध को एक साफ कटोरी में निकाल कर अपने बच्चे को पिलाना चाहिए। दूध निकालने से पहले अपने हाथों को साबुन से कम से कम 40 सेकंड तक धोएं। दूध निकालने के लिए जो कटोरी है अभी अच्छी तरह साबुन और पानी से साफ की गई हो। निकाला गया दूध बच्चे को एक साफ कटोरिया कब से चम्मच से ही पिलाएं।

 

 

स्तनपान कराने या दूध निकालने में असमर्थ हो तो क्या करें:

 

यदि मा गंभीर रूप से बीमार है तथा बच्चे को अपना दूध पिलाने का दूध निकालने में सक्षम नहीं है, तब वह ह्यूमन डोनर मिल्क बच्चे को पिला सकती है, यदि उपलब्ध है। तो कुछ समय के बाद मां अपना दूध पुनः पिलाना शुरू कर सकती है जिसे रीलेक्टेशन भी कहा जाता है।

 

अगर शिशु कोविड-19 के संदिग्ध हो तब:

 

अगर शिशु कोविड-19 के संदिग्ध है या उसकी पुष्टि हो गई है तब भी मां मास्क का उपयोग करते हुए बच्चे को दूध पिला सकती है। मां के दूध में सबसे ज्यादा इम्यूनिटी होती है जो आज के समय में और भी ज्यादा जरूरी है। वीडियो के माध्यम से 1 से 7 अगस्त तक विश्व स्तनपान सप्ताह के दौरान अधिक से अधिक लोगों को यह जानकारी देकर बच्चों के शारीरिक स्वास्थ्य के साथ-साथ दिमागी विकास भावनात्मक सुरक्षा को सुदृढ़ करने का प्रयास किया जा रहा है।

error: Content is protected !!