कोरोना से बचाव के लिए जागरूकता रथ को डीएम-एसपी ने हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

कोरोना से बचाव के लिए जागरूकता रथ को डीएम-एसपी ने हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

 

• गांव-गांव जाकर लोगों को कोविड-19 से बचाव के लिए किया जायेगा जागरूक

• 30 प्रचार वाहन द्वारा ऑडियो के माध्यम से लोगों को किया जायेगा जागरूक

• सभी प्रखंडों के लिए प्रचार वाहन रवाना

 

गोपालगंज/ 9 जून। कोविड-19 से बचाव के लिए जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की ओर से तमाम प्रयास किये जा रहें हैं। अब लोगों को प्रचार वाहन के माध्यम से इस संक्रमण बचाव के लिए जागरूक किया जायेगा। इसको लेकर मंगलवार को सदर अस्पताल परिसर से जिलाधिकारी अरशद अजीज व पुलिस अधीक्षक मनोज तिवारी के द्वारा हरी झंडी दिखाकर जागरूकता रथ को रवाना किया गया। जिले में 30 प्रचार वाहनों के माध्यम से गांव-गांव जाकर लोगों को कोरोना वायरस से संक्रमण से बचाव के लिए जागरूक किया जायेगा।

जिलाधिकारी अरशद अजीज ने कहा इस संक्रमण से रोकथाम के लिए जिला प्रशासन पूरी तरह से सतर्क है और आमजन को भी अपनी ओर से विशेष सतर्कता बरतनी चाहिए। मास्क, ग्लव्स, सैनिटाइजर और सोशल डिस्टेंसिग अब जिंदगी का अभिन्न अंग बनें होंगे। डीएम ने कहा जागरूकता वाहन गांव-गांव व शहरों के सार्वजनिक स्थलों पर जाकर लोगों को कोरोना से बचाव के लिए क्या करें व क्या न करें की उपयोगी जानकारी देगी। शहरी व ग्रामीण क्षेत्र के लोगों तक कोरोना से बचाव की जानकारी देने के लिए विभाग का जागरूकता वाहन आडियो क्लीप सहित माइक से अनाउसमेंट कर जिला के हर गांव में दस्तक देते हुए लोगों को निरंतर सचेत किया जायेगा।

 

वायरस से घबराने की नहीं बल्कि साहस रखने की जरूरत:

 

जिलाधिकारी अरशद अजीज ने बताया सबसे जरूरी है कि लोग अपने घरों में रहें और यदि कोई जरूरी कार्य हो तो तभी घर से बाहर निकलें। जिला प्रशासन द्वारा आमजन की जरूरी चीजों के लिए व्यवस्था की गई है। किसी भी व्यक्ति को इस वायरस से घबराने की जरूरत नहीं बल्कि साहस रखने की जरूरत है। देश व प्रदेश सरकार हम सबके साथ है, जिले में स्वास्थ्य संबंधी पूरी व्यवस्था की गई है। अपने आपको सुरक्षित रखें, भीड़-भाड़ वाले क्षेत्रों में ना जाएं।

 

 

कोरोना वायरस से बचने के लिए क्या करें:

 

• व्यक्तिगत स्वच्छता और शारीरिक दूरी बनाए रखें।

• बार-बार हाथ धोने की आदत डालें। साबुन और पानी से हाथ धोएं या अल्कोहल आधारित हैंड रब का इस्तेमाल करें।

• साफ दिखने वाले हाथों को निरंतर धोएं।

• छींकते औरर खांसते समय अप नी नाक और मुंह को रूमाल या टिशू से ढंकें।

• उपयोग किए गए टिशू को उपयोग के तुरंत बाद बंद डिब्बे में फेंकें।

• बातचीत के दौरान व्यक्तियों से एक सुरक्षित दूरी बनाए रखें, विशेष रूप से फ्लू जैसे लक्षण दिखने वाले व्यक्तियों के साथ।

• अपनी कोहने के अंदरूनी हिस्से में छींके, अपने हाथों की हथेलियों में न खासें।

• अपने तापमान को और श्वसन लक्षणों की जांच नियमित रूप से करें। अस्वस्थ्य महसूस करने पर (बुखार, सांस लेने में कठिनाई और खांसी) डॉक्टर से मिलने के दौरान, अपने मुंह और नाक को ढंकने के लिए मास्क का प्रयोग करें।

• खांसने-छींकने वालों से कम से कम 1 मीटर की दूरी बनाएं

 

क्या नहीं करें:

 

• हाथ न मिलाएं।

• अगर आपको खांसी और बुखार महसूस हो रहा है तो किसी के साथ निकट संपर्क में न आएं।

• अपनी आंख, नाक और मुंह को स्पर्श न करें।

• हाथों की हथेलियों में न छींके और न ही खासें।

• सार्वजनिक रूप से न थूकें।

• अनावश्यक यात्रा न करें, विशेषकर प्रभावित इलाकों में।

• समूह में न बैठें, बड़े समारोहों में भाग न लें।

• जिम, क्लब और भीड़-भाड़वाली जगहों पर न जाएं।

• अफवाह और दहशत न फैलाएं।

 

इस अवसर पर डीएम अरशद अजीज, एसपी मनोज तिवारी, सिविल सर्जन डॉ. टीएन सिंह, डीपीएम धीरज कुमार, डीएमएंडई जयंत कुमार चौहान समेत अन्य स्वास्थ्य कर्मी मौजूद थे।

error: Content is protected !!