बेहतर समन्वय स्थापित कर फाइलेरिया उन्मूलन अभियान को बनाएं सफल: डीएम

• डीएम ने की कोविड टीकाकरण, पल्स पोलियो अभियान और फाइलेरिया की समीक्षा बैठक।

• फाइलेरिया उन्मूलन के लिए माइक्रोप्लान तैयार करें

• 17 सितंबर को कोविड टीकाकरण महा-अभियान में शत-प्रतिशत लक्ष्य हासिल करें

छपरा,13सितंबर । सारण समाहरणालय सभागार में जिलाधिकारी डॉ. नीलेश रामचंद्र देवरे की अध्यक्षता में कोविड टीकाकरण, फाइलेरिया उन्मूलन और पल्स पोलिया अभियान की समीक्षा बैठक आयोजित की गयी। जिसमें डीएम के द्वारा प्रत्येक बिन्दुओं पर गहनता के साथ समीक्षा की गयी। जिलाधिकारी डॉ. नीलेश रामचंद्र देवरे ने कहा कि 20 सितंबर से फाइलेरिया उन्मूलन के लिए सर्वजन दवा सेवन कार्यक्रम की शुरुआत की जायेगी। डीएम ने निर्देश दिया कि अभियान के सफल क्रियान्वयन के लिए माइक्रोप्लान तैयार करें। इसके साथ हीं सभी विभागों से बेहतर समन्वय स्थापित कर अभियान को सफल बनाएं। आमजनों को जागरूक करने के लिए दिवाल लेखन तथा ऑडियो  के माध्यम से प्रचार-प्रसार करना सुनिश्चित करें। उन्होने निर्देश दिया कि स्वास्थ्य विभाग, पंचायती राज, आईसीडीएस, शिक्षा विभाग, जीविका सभी आपसी समन्वय स्थापित कर इस अभियान को सफल बनाएं। इस दौरान जिलाधिकारी के द्वारा आईईसी मैटेरियल की  भी लांचिंग की  गयी । फाइलेरिया चक्र में  सभी स्वास्थ्य कर्मी घर-घर जाकर लोगों को अपने सामने दवा खिलाना सुनिश्चित करें। पूर्व के कार्यक्रम की उपलब्धियों पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि अक्सर लोग आशा एवं अन्य कर्मीयों द्वारा दी गई फाइलेरिया की दवा को नहीं खाते हैं। इसलिए उन्हें अपने सामने दवा खिलाएं। हर व्यक्ति को इन दवाओं का सेवन करना है। केवल गर्भवती महिलाओं, दो साल से कम उम्र के बच्चों एवं गंभीर बीमारी से पीड़ित लोगों को यह दवा सेवन नहीं करनी है। दो साल से पांच साल तक के बच्चे भी फाइलेरिया दवाओं का सेवन कर सकते हैं और स्वास्थ्य कर्मी की निगरानी में ही दवा का सेवन करना है।

वायरल फीवर के लिए रहें अलर्ट:

जिलाधिकारी डॉ. नीलेश रामचंद्र देवरे ने कहा कि जिले में वायरल फीवर के मामले सामने आ रहे  हैं । इसको लेकर अलर्ट रहने की जरूरत है। स्वास्थ्य संस्थानों में आवश्यक दवाओं व बेड की उपलब्धता सुनिश्चित करें। वायरल फीवर के मरीजों की सूचना तुरंत विभाग को दें ताकि उसकी  जांच और सैंपल ली  जा सके। डीएम ने कहा कि अमनौर में एक बच्चा डेंगू से पीड़ित पाया गया है। जबकि दो बच्चों में जेई के  लक्षण हैं । डेंगू के लिए प्रत्येक स्वास्थ्य संस्थान  में डेंगू वार्ड का बनाए गये हैं। जिसमें दो बेड की व्यवस्था सुनिश्चित की गयी है। इसके साथ हीं जांच के लिए एंटीजन किट रखने का निर्देश दिया गया है।

17 सितंबर को चलेगा कोविड टीकाकरण महा-अभियान:

जिलाधिकारी डॉ. नीलेश रामचंद्र देवरे ने कहा कि कोविड टीकाकरण लक्ष्य को शत-प्रतिशत हासिल करना है। दूसरे डोज के लाभार्थियों को हर हाल में टीका देना है। 17 सितंबर को महा अभियान चलेगा। इस अभियान में एक लाख से अधिक लाभार्थियों का टीकाकरण किया जायेगा। डीएम ने कहा कि 5000 से अधिक हेल्थ केयर वर्कर और 8000 से अधिक फ्रंटलाइन वर्कर अभी सेकेंड डोज से वंचित हैं । उन्होने सभी विभागों को निर्देश दिया है कि सभी कर्मियों को सेकेंड डोज के लिए निर्देशित करें। अभियान को सफल बनाने के लिए अभी से माइक्रोप्लान तैयार करें। कोविन पोर्टल पर एंट्री को ससमय  सुनिश्चित करें। अभियान के दौरान जिला स्तर से भी कोविड टीकाकरण सेंटर पर डेटा ऑपरेटर उपलब्ध कराया जायेगा।

26 सितंबर से चलेगा पोलिया अभियान, बच्चों को पिलाई जायेगी दो बूंद जिन्दगी की:

डीएम ने कहा कि 26 सितंबर से पांच दिवसीय पल्स पोलिया अभियान की शुरुआत की जायेगी। आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर 0 से 5 वर्ष तक बच्चों को पोलियो की खुराक पिलायेंगी। पोलिया अभियान के लिए भी माइक्रोप्लान जरूरी है। इसके लिए प्रखंड स्तर बीडीओ की अध्यक्षता मे टास्क फोर्स की बैठक कर प्लान तैयार करें। ताकि कोई भी बच्चा पोलियो  की दवा से वंचित नहीं रहे । इस बैठक में जिलाधिकारी डॉ. नीलेश रामचंद्र देवरे, एडीएम डॉ. गगन, सिविल सर्जन डॉ. जेपी सुकुमार, डीएमओ डॉ. दिलीप कुमार सिंह, एसीएमओ डॉ. एचसी प्रसाद, डीआईओ डॉ. चंदेश्वर सिंह, डीपीसी रमेश चंद्र कुमार, केयर इंडिया के डीटीएल संजय कुमार विश्वास, डब्ल्यूएचओ के एसएमओ डॉ. रंजितेश कुमार, एसएमसी आरती त्रिपाठी, केयर डीपीओ आदित्य कुमार, सीफार के प्रमंडलीय कार्यक्रम समन्वयक गनपत आर्यन, पीसीआई के आरएमसी संजय यादव समेत सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, स्वास्थ्य प्रबंधक और बीडीओ सीडीपीओ शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!