मिडिया के सहयोग से शत-प्रतिशत हासिल होगा लक्ष्य: सिविल सर्जन

मीडिया के सहयोग से शत-प्रतिशत हासिल होगा लक्ष्य: सिविल सर्जन

• सघन मिशन इंद्रधनुष अभियान को लेकर मीडिया कार्यशाला का हुआ आयोजन, 2 मार्च से चलेगा अभियान

• जिले छह प्रखंडों में चलेगा सघन मिशन इंद्रधनुष अभियान• टीम का हुआ गठन, जिलास्तर पर होगी मॉनिटरिंग

• एएनएम स्कूल के छात्राओं ने निकाली जागरूकता रैलीछपरा, 29 फरवरी। सघन मिशन इंद्रधनुष 2.0 अभियान के चौथे व अंतिम चरण की सफलता को लेकर सदर अस्पताल में शनिवार को सिविल सर्जन डॉ. माधवेश्वर झा की अध्यक्षता में मीडिया कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस अवसर पर सिविल सर्जन डॉ. झा ने कहा जिले के छह प्रखंडों में 2 मार्च से सघन मिशन इंद्रधनुष 2.0 अभियान का चौथे चरण शुरूआत की जायेगी।

इसके तहत नियमित टीकाकरण से वंचित बच्चों एवं गर्भवती माताओं को प्रतिरक्षित किया जायेगा। इसको लेकर विभाग की ओर से तैयारी पूरी कर ली गयी है। अभियान के सफल क्रियान्वयन के लिए व्यापक स्तर पर जागरूकता अभियान भी चलाया जा रहा है। उन्होने बताया आखिरी चरण के लिए 1586 बच्चे 144 गर्भवती महिलाओं को टीकाकरण के लिए चिन्हित किया गया है।

उन्होने कहा इस अभियान की सफलता में मीडिया का बहुत बड़ा योगदान है। तीन राउंड में जिस तरह से मीडिया के माध्यम से लोगों में जागरूकता आयी है। उसी प्रकार चौथे एवं आखिरी राउंड में भी मीडिया के सहयोग की जरूरत होगी. उन्होंने मीडिया कर्मियों से सघन मिशन इन्द्रधनुष के आखिरी चरण में सहयोग की अपील की. इस अवसर पर जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. अजय कुमार शर्मा, डब्ल्यूएचओ के एसएमओ डॉ. रंजितेष कुमार, यूनिसेफ के एसएमसी आरती त्रिपाठी, शहरी क्षेत्र के आईएमआई नोडल डॉ. राजीव रंजन कुमार सिंह, सीफार के प्रमंडलीय कार्यक्रम समन्वयक गणपत आर्यन, लेखापाल बंटी कुमार रजक, समेत अन्य कर्मी मौजूद थे।

निकाली गई जागरूकता रैली: सदर अस्पताल के ओपीडी परिसर से एएनएम स्कूल के छात्रों ने सघन मिशन इंद्रधनुष अभियान को लेकर जागरूकता रैली निकाली गई। सिविल सर्जन ने हरी झंडी दिखाकर रैली को रवाना किया। छात्राओं ने रैली के माध्यम से लोगों को टीकाकरण के प्रति जागरूक किया।225 साइट पर होगा टीकाकरण:जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. अजय कुमार शर्मा ने बताया सघन मिशन इंद्रधनुष अभियान 2.0 का दूसरा चरण जिले के 6 प्रखंडों में चलाया जाएगा। इसके लिए इन प्रखंडों में कुल 225 साइट का चयन किया गया है। जहां पर अभियान चलाकर महिलाओं व बच्चों प्रतिरक्षित किया जायेगा।

अभियान की सफलता के लिए चिन्हित प्रखण्डों ने सूक्ष्म कार्ययोजना बना ली है। टीम का हुआ गठन:अभियान को लेकर स्वास्थ्य विभाग की ओर से तैयारी पूरी कर ली गयी है। इसके लिए छह प्रखंडों में 97 एएनएम को कार्य पर लगाया गया है। इसकी मॉनिटिरिंग के लिए प्रखंडस्तर से लेकर जिलास्तर पर टीम बनायी गयी है।अभियान के दौरान टीम फिल्ड विजिट कर निरीक्षण भी करेगी।

जिले के 6 प्रखंडों में चलेगा अभियान:जिले के 6 ऐसे प्रखंडों को चिन्हित किया गया है जहां पर टीकाकरण का लक्ष्य 80 प्रतिशत से कम है। जिसमें परसा, लहलादपुर, पानापुर, मढौरा, मांझी, मशरख प्रखंड को शामिल किया गया है। ईंट भट्ठे को किया गया चिन्हित:ईंट भट्ठे पर काम करने वाली महिलाओं व उनके बच्चों को भी प्रतिरक्षित किया जायेग। इसके लिए ईंट भट्ठा संचालको से भी इस अभियान में सहयोग करने की अपील की गई है।

टीकाकरण के बाद क्या करें:

• टीकाकरण के बाद 30 मिनट तक टीकाकरण स्थल पर बैठे।

• अपने बच्चे की अगले टीकाकरण की जानकारी भी अवश्य लें। • टीकाकरण के बाद बच्चे को दर्द बुखार या अन्य लक्षण है तो तुरंत अपने क्षेत्र के आशा व एएनएम से संपर्क करें।

• टीकाकरण कार्ड हमेशा संभालकर रखें। ये आपकी बच्चे के स्वास्थ्य संबधित जानकारी के लिए जरूरी है।

error: Content is protected !!