छपरा में जहरीली शराब पीने से आंखों की रोशनी गंवा चुके बीमार मुकेश ठाकुर की उपचार के दौरान हुई मौत।

पानापुर/छपरा : जिले में जहरीली शराब पीने से आंखों की रोशनी गंवा चुके बीमार मुकेश ठाकुर की अंततः उपचार के दौरान मौत हो गई. वहीं उसकी मौत के बाद जिला प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है. हालांकि सूचना के बाद एंटी लिकर टास्क फोर्स मामले की छानबीन में जुटी थी, लेकिन बीमार युवक के अचेत होने के कारण विस्तृत जानकारी हासिल हो सकी थी! मृत युवक पानापुर थाना क्षेत्र के भोरहा गांव निवासी परदेसी ठाकुर का 36 वर्षीय पुत्र मुकेश ठाकुर था. विदित हो कि वह गांव में एक सैलून चलाता था. स्थानीय लोगों के अनुसार वह शराब का आदी भी था. जैसा कि उसके द्वारा प्रथम वक्तव्य में जिक्र भी किया गया था कि वह नियमित शराब का सेवन करते रहा है. वहीं बुधवार की देर शाम अचानक उसकी तबीयत बिगड़ी और उसे दिखाई देना बंद हो गया. जिसके बाद परिवार वाले रोते-पीटते उसे लेकर मशरक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे, जहां उसकी गंभीर स्थिति को देखते हुए शीघ्र ही उसे छपरा सदर अस्पताल रेफर कर दिया गया. हालांकि छपरा सदर अस्पताल में उसके द्वारा पहली बात यही बताई गई थी कि वह शराब पिया है और उसे दिखाई नहीं दे रहा. इस सूचना के बाद जिला प्रशासन हरकत में आयी और एंटी लिकर ट्रांस्क फोर्स मामले की छानबीन में जुट गई!

वहीं सदर अस्पताल में उपचार कर रहे चिकित्सक के द्वारा भी चिकित्सा पर्ची पर उसके एल्कोहलिक होने का जिक्र करते हुए उसके विजन की जांच के लिए नेत्र चिकित्सक को रेफर किया था. लेकिन उसकी स्थिति लगातार बिगड़ती जा रही थी कार्यक्रम में देर रात्रि उसकी मृत्यु हो गई चिकित्सक द्वारा उसे मृत घोषित किए जाने के साथ ही परिवार वालों ने कोहराम मच गया वही जिला प्रशासन स्तब्ध रह गया. बताते चले कि सारण जिले के लिए यह पहली घटना नहीं है. शराबबंदी के बाद इसके पहले कई लोग अपने आंखों की रोशनी गंवा चुके हैं तो कई लोगों की मौत हो चुकी है

error: Content is protected !!