लघुकथा : श्री संजीव वर्मा सलिल के कलम से

लघुकथा : श्री संजीव वर्मा सलिल के कलम से:सवाल शेरसिंह ने दुनिया का सर्वाधिक प्रभावी नेता तथा सबसे अधिक सुरक्षित जंगल बनाने का दावा कर चुनाव जीत लिया। जिन जगहों से उसका दल हारा। वहीं भीषण दंगा हो गया। अनेक छोटे-छोटे पशु-पक्षी मारे गए। बाद में हाथी ने बल प्रयोग कर शांति स्थापित की। बगुला भगत टी वी पर परिचर्चा में शासन – प्रशासन का गुणगान करने लगा तो पत्रकार उलूक ने पूछा ‘दुनिया का सर्वाधिक असरदार सरदार दंगों के समय सामने क्यों नहीं आया? सबसे अधिक चुस्त-दुरुस्त पुलिस के ख़ुफ़िया तंत्र को हजारों दंगाइयों, सैकड़ों हथियारों तथा दंगे की योजना बनाने की खबर क्यों नहीं मिली? बिना प्रभावी योजना, पर्याप्त अस्त्र-शस्त्र और तैयारी के भेजे गए पुलिस जवानों और अफसरों को हुई क्षति की जिम्मेदारी किसकी है? अगले दिन सत्ता के टुकड़ों पर पल रहे सियारों ने उस चैनल तथा संबंधित अख़बार के कार्यालयों पर पथराव किया, उनके विज्ञापन बंद कर दिये गए पर जंगल की हवा में अब भी तैर रहे थे सवाल।

One thought on “लघुकथा : श्री संजीव वर्मा सलिल के कलम से

  1. लघुकथाकार आचार्य संजीव वर्मा सलिल जी ने अपनी लघुकथा “सवाल” के माध्यम से वर्तमान भारत की त्रास्दी को पाठकों के समक्ष प्रस्तुत किया है। जिसमें वर्तमान भारत की राजनीतिक, प्रशासनिक तथा सामाजिक गतिविधियों पर सवाल खड़े हो जाते हैं ?

Comments are closed.

error: Content is protected !!