कोविड-19 औऱ बाढ़ की आड़ में करोड़ो की हुई लूट -सरोज कुमारी

कोविड-19 औऱ बाढ़ की आड़ में करोड़ो की हुई लूट -सरोज कुमारी

रिपोर्ट- पुर्नवासी यादव

 

सारण-इसुआपुर प्रखण्ड प्रमुख ने इसुआपुर प्रमुख कार्यलय में प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते है इसुआपुर अंचलाधिलारी पर बाढ़ और कॅरोना की आड़ में राहत के नाम पर करोड़ो रुपये के गबन का आरोप लगाई है ।प्रमुख सरोज कुमारी ने कहा कि कोविड-19 हो या बाढ़ ,अंचलाधिकरी द्वारा कोई भी आदेश जारी की जाती है तो उसकी प्रतिलिपि प्रखण्ड को नही भेजी जाती और न ही अनुश्रवण समिति को जानकारों दी जाती है ।

बिधित हो कि अनुश्रवण समिति के बैठक में जनप्रतिनिधियो द्वारा प्रखण्ड को बाढ़ घोधित करने का प्रस्ताव लिया गया वही प्रखण्ड प्रमुख सह अध्यक्ष द्वारा अंचलाधिकरी द्वारा किये गए राहत कार्यो की जाँच हेतू एक जांच कमिटी का गठन कर जाँच रिपोर्ट देने का प्रस्ताव लिया गया और जांच कमिटी के गठन भी सदन में ही किया गया जिसके उपरांत अंचलाधिकारी द्वारा गोपनीय ढंग से प्रोसिडिंग रजिस्टर बिना बन्द किए फरार हो गए और अब तक लिए गए प्रस्ताव के आलोक में कोई पत्राचार नही किया गया ,प्रमुख सरोज कुमारी ने उनके कार्य सैली पर सवाल खड़े करते है कहा है कि अंचलाधिकारी द्वारा लुटे हुए राशि मे बरिये पदाधिकारियो की संलिप्त होने की अंदेशे है क्योंकि अजय ठाकुर जी का तबादला दो महीने पूर्ब ही हो गया था फिर भी यहाँ बने हुए थे और लूट की दुकान आपदा के आड़ के चला रहे थे ,वही प्रमुख सरोज कुमारी ने कहा कि पूरे बिहार में इसुआपुर की छबि को धूमिल करने का काम अंचलधिकारी द्वारा तब किया गया जब बेड शीट के नाम पर कोरेन्टीन लोगो को कफन दिया गया जो चर्चा का बिषय था वही इस वारदात के बाद भी कोई करवाई नही होती।

प्रमुख ने प्रमुखता से अंचलाधिकारी की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए कहा कि बेड शीट के जगह कफन,टेढ़ा कोरेन्टीन में एक मरीज की मौत,कोरेन्टीन किट में घपला,अपने अलावे किसी अन्य पदाधिकारी को कार्यकम में और कार्यो में शामिल नही करना,बाढ़ में 100 लोगो के जगह 200 लोगो का खाने का बिल ,जरनेटर,सीसीटीव और अन्य का बिल के भुगतान के लिए 30 प्रतिशत कमिसन की मांग कर भुगतान करना वरना लंबित रखना जैसे तमाम गतिविधियों से ये जाहिर होता है कि सरकारी अर्थथ जनता के पैसे की करोड़ो में लूट मचाई गई गई और इस लूट में बहुत लोग शामिल है ।

इस लिए प्रमुख सरोज कुमारी ने जिला प्रशाशन से जाँच कर कार्रवाई करने की मांग किया है अन्यतः अनुश्रवण समिति सह निगरानी समिति अदालत जाएगी

 

error: Content is protected !!