माले विधायकों के मार्शल आउट के खिलाफ राज्यव्यापी विरोध दिवस मनाया गया।

छपरा(सारण)माली विधायकों का मार्शल आउट निंदनीय क्रिमिनलाइजेशन करप्शन व कम्युनलिज्म पर बाहर से भाग रही सरकार के रवैए के खिलाफ राज्य नेतृत्व के आह्वान पर सारण भाकपा माले के कार्यकर्ताओं ने विरोध दिवस मनाया। विरोध जुलूस नगर पालिका मैदान से शुरू होकर शहर के विभिन्न चौक से होते हुए म्युनिसिपल चौक पर सभा में तब्दील हो गई। सभा को संबोधित करते हुए भाकपा माले के जिला सचिव सभापति राय ने कहा कि विधानसभा के अंदर लोकतंत्र शर्मसार हुआ है। बिहार विधान सभा को राज्य में गिरती कानून व्यवस्था के सवाल पर गंभीरता दिखानी चाहिए थी, लेकिन उन्होंने तानाशाही का रवैया अपनाया । उनका इस तरह का आचरण बार बार देखा जा रहा है। वे भाजपा और आरएसएस के एजेंडे पर कार्य कर रहे हैं। विदित हो कि भाकपा माले विधायक दल ने 31 मार्च को विधानसभा में राज्य में गिरती कानून व्यवस्था ,मोब्लिचिंग भाजपा आर एस एस द्वारा सांप्रदायिक उन्माद भड़काने दलित अति पिछड़ों तथा अल्पसंख्यकों के खिलाफ घृणा प्रचार आदि विषय पर ही कार्य का प्रस्ताव लाया था लेकिन भाजपाई विधान सभा अध्यक्ष ने उल्टे भाकपा माले विधायकों को अपमानित कर विधायकों को जबरदस्ती उठाकर बाहर भिजवा दिया ।यह लोकतंत्र के लिए अच्छा नहीं है। सरकार के इस रुख के खिलाफ भाकपा माले जनता को गोलबंद करेगी और जनविरोधी तथा लोकतंत्र विरोधी सरकार को उखाड़ फेंकने का आह्वान करेगी ।सभा को संबोधित करने वालों में जिला कमेटी सदस्य विजेंद्र मिश्र, जीव नंदन राय ,अनुज कुमार दास, दीपांकर कुमार छात्र नेता, नागेंद्र प्रसाद , देवकली देवी, ललिता देवी, अमरावती देवी, पार्वती देवी, कलावती देवी, बकरीदन बीबी, विजय शंकर शर्मा, रामपुकार शाह, समेत अनेकों लोग शामिल हुए

error: Content is protected !!